Category: सम्पादकीय

spot_imgspot_img

आरएसएस बैठक को लेकर गलाकाट स्पर्धा ने मीडिया को बनाया हंसी का पात्र

प्रवीण दुबे चित्रकूट में आयोजित आरएसएस की बैठक को लेकर तमाम विरोधाभासी घबरों से अख़बार उनसे जुड़ी मीडिया वेबसाइट और सोशल मीडिया भरा पड़ा है। एक समय वह भी था जब संघ को...

भागवत के बयान पर नेहरू व जिन्नावादी सोच के नेताओं को क्यों लगी मिर्ची ?

प्रवीण दुबे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत द्वारा हिंदुत्व और लिंचिंग को लेकर दिए बयान के बाद कट्टरवादी मुल्ला मौलवी और दिग्विजयसिंह जैसे नेताओं में खलबली मच गई है।...

सिंधिया के सामने नतमस्तक भाजपा ,सत्ता से लेकर संगठन तक सिंधिया ही सिंधिया

ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा क्या जिम्मेदारी देने जा रही है यह तो अभी समय के गर्भ में छुपा है लेकिन इतना जरूर साफ हो गया है कि श्री सिंधिया ने भाजपा नेतृत्व...

आज भी जीवित हैँ लोकतंत्र की हत्यारी मानसिकता के अनुगामी,नई पीढ़ी को सच्चाई जानना जरूरी

प्रवीण दुबे   आज भी जीवित हैँ लोकतंत्र की हत्यारी मानसिकता के अनुगामी,नई पीढ़ी को सच्चाई जानना जरूरी आपातकाल अर्थात भारतीय लोकतंत्र का वह बदनुमा दाग जिसने पूरी दुनिया में भारत को शर्मसार करके रख...

जल के प्रति आदर व जल संरक्षण का इससे बड़ा उदाहरण पूरी दुनिया में कहीं नहीं

प्रवीण दुबे हम युगों युगों से प्रकृति उपासक रहे हैं हम उस सनातन संस्कृति के अनुगामी है जहां कंकर कंकर में शंकर और जल नभ और पाताल के समस्त जीव निर्जीव में परमात्मा...

जन्मदिन विशेष : वर्तमान की दुर्गंधयुक्त राजनीतिक माहौल में सुगन्ध बिखेरता एक उज्ज्वल व्यक्तित्व

   प्रवीण दुबे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की वैचारिक परम्परा में कार्यकर्ता को देवदुर्लभ की संज्ञा देकर इंगित किया जाता है। सच पूछा जाए तो यहां कार्य करते करते एक कार्यकर्ता कब और कैसे...

मध्यप्रदेश में नेतृत्व परिवर्तन का संकेत हैं यह मेल मुलाकातें

मध्यप्रदेश में सत्ताधारी दल भाजपा में भोपाल से लेकर दिल्ली तक जो हलचल देखी जा रही है उसने राजनीतिक पंडितों को बहुत कुछ सोचने को मजबूर कर दिया है। चूंकि इस समय...

सी आई ए के खुफिया दस्तावेज से सनसनीखेज  खुलासा ,पंजाब कश्मीर को देश से तोड़ने के पुराने एजेंडे पर भारत के कम्युनिस्ट 

प्रवीण दुबे क्या वर्तमान में जारी किसान आंदोलन की आढ़ में लहराए जाने वाले खलिस्तान व कम्युनिस्ट पार्टी के लाल झंडे तथा 26 जनवरी जैसे राष्ट्रीय दिवस पर तिरंगे के अपमान और हिंसाचार...
Follow us
0FansLike
2,876FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
Instagram
Most Popular