Homeदेशग्वालियर के निकट भूकंप का केन्द्र :जानिए मध्यप्रदेश को BIS ने रखा...

ग्वालियर के निकट भूकंप का केन्द्र :जानिए मध्यप्रदेश को BIS ने रखा है किस भूकंप जोन में

ग्वालियर में आज भूकंप के झटके महसूस किए गए भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार इसका केंद्र ग्वालियर से 28 किलोमीटर दूर रिकॉर्ड किया गया है निसंदेह यह चिंता का विषय है लोगों में जहां भूकंप को लेकर भय का माहौल है वही शहरवासी यह बात जानना चाहते हैं की पूरे देश को भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) ने जिन पांच भूकंप जोन में बांटा है उसमें से मध्य प्रदेश की स्थिति क्या है आइए जानते हैं देश के भूकंप जोन के बारे में।

भारत में हर साल सैकड़ों भूकंप आते हैं. कुछ बेहद हल्के. कुछ मध्यम दर्जे के. कुछ जमीन को ज्यादा हिलाते हैं तो कुछ डरा देते हैं. पूरे देश को भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) ने पांच भूकंप जोन में बांटा है. देश का 59 फीसदी हिस्सा भूकंप रिस्क जोन में है. देश में पांचवें जोन को सबसे ज्यादा खतरनाक और सक्रिय माना जाता है. इस जोन में आने वाले राज्यों और इलाकों में तबाही की आशंका सबसे ज्यादा बनी रहती है.

पांचवें जोन में देश के कुल भूखंड का 11 फीसदी हिस्सा आता है. चौथे जोन में 18 फीसदी और तीसरे और दूसरे जोन में 30 फीसदी. सबसे ज्यादा खतरा जोन 4 और 5 वाले इलाकों को है. अब हम आपको बताते हैं कि किस जोन में राज्य या उनका कौन सा इलाका आता है. क्योंकि एक ही राज्य के अलग-अलग इलाके अलग-अलग जोन में आ सकते हैं. या आते हैं. सबसे पहले सबसे ज्यादा खतरनाक जोन के बारे में जानिए.

भारत के पूरे भूखंड को पांच भूकंप जोन में बांटा गया है. लाल रंग वाले सबसे ज्यादा खतरनाक जोन में है.

सबसे खतरनाक जोन है पांचवां. इस जोन में जम्मू और कश्मीर का हिस्सा (कश्मीर घाटी), हिमाचल प्रदेश का पश्चिमी हिस्सा, उत्तराखंड का पूर्वी हिस्सा, गुजरात में कच्छ का रण, उत्तरी बिहार का हिस्सा, भारत के सभी पूर्वोत्तर राज्य, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह शामिल हैं

चौथे जोन में जम्मू और कश्मीर के शेष हिस्से, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के बाकी हिस्से, हरियाणा के कुछ हिस्से, पंजाब के कुछ हिस्से, दिल्ली, सिक्किम, उत्तर प्रदेश के उत्तरी हिस्से, बिहार और पश्चिम बंगाल का छोटा हिस्सा, गुजरात, पश्चिमी तट के पास महाराष्ट्र का कुछ हिस्सा और पश्चिमी राजस्थान का छोटा हिस्सा इस जोन में आता है.

तीसरे जोन में आता है केरल, गोवा, लक्षद्वीप समूह, उत्तर प्रदेश और हरियाणा का कुछ हिस्सा, गुजरात और पंजाब के बचे हुए हिस्से, पश्चिम बंगाल का कुछ इलाका, पश्चिमी राजस्थान, मध्यप्रदेश, बिहार का कुछ इलाका, झारखंड का उत्तरी हिस्सा और छत्तीसगढ़. महाराष्ट्र, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु और कर्नाटक का कुछ इलाका.

पहले जोन में कोई खतरा नहीं होता. इसलिए हम उसका जिक्र नहीं कर रहे हैं. जोन-2 में आते है राजस्थान, हरियाणा, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और तमिलनाडु का बचा हुआ हिस्सा.

 

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments