Google search engine
Homeधर्म कर्मआस्था की डुबकी : कोरोना के साये में 14 जनवरी से शुरू...

आस्था की डुबकी : कोरोना के साये में 14 जनवरी से शुरू होगा प्रयागराज का विशाल माघ मेला

लखनऊ /देश में कोरोना संक्रमण के मामले फुल स्पीड के साथ हर दिन बढ़ रहे हैं. तीसरी लहर की संभावना के साथ सरकार लोगों की जिंदगी बचाने के लिए तमाम प्रतिबंध भी लगा रही है. वहीं गंभीर हालात के बीच  संगम नगरी प्रयागराज में आस्था के नाम पर हर साल लगने वाले माघ मेले के लिए तंबुओं का एक ऐसा शहर ज़ोर- शोर से बसाया जा रहा है, जहां हज़ारों और लाखों नहीं बल्कि कई करोड़ श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है. हालांकि सरकार और मेला प्रशासन ने संत -महात्माओं, कल्पवासियों व दूसरे श्रद्धालुओं को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए कई नियम बना दिए हैं और एडवाइजरी जारी कर दी है.

प्रयागराज के माघ मेले में सख्ती बरतने और लोगों को जागरूक करने का भले ही दावा किया जा है, लेकिन सच यही है कि सिर पर आस्था की गठरी लादकर पुण्य कमाने की लालसा में आने वाली लाखों की भीड़ के बीच कोविड प्रोटोकॉल का पालन करा पाना व्यवहारिक तौर पर कतई मुमकिन नहीं है. पिछले साल हरिद्वार कुंभ का अंजाम देखने के बावजूद मेले के आयोजन पर रोक लगाकर एक तरफ जहां सरकार चुनावी साल में वोटर रूपी श्रद्धालुओं को नाराज करने का जोखिम मोल नहीं लेना चाहती तो वहीं दूसरी सियासी पार्टियां भी इस मामले में मुंह खोलने या आवाज़ उठाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रही हैं.

प्रयागराज के माघ मेले में हर साल कई शंकराचार्यों के साथ ही देश के तकरीबन प्रमुख संत -महात्मा यहां कल्पवास करने या आस्था की डुबकी लगाने के लिए आते हैं. मेले में आने वाले आम श्रद्धालुओं से लेकर ज़्यादातर महात्मा और तीर्थ पुरोहित का मानना है कि गंगा मइया की गोद में रहकर माघ महीने में धर्म और आध्यात्म की अलख जगाने पर कोरोना उनका कोई नुकसान नहीं कर सकेगा. इस तरह की दलीलें देने और यकीन रखने वाले लोग बेफिक्र होकर मेले में इंट्री कर रहे हैं. वह न तो मास्क लगा रहे हैं और न ही दो गज़ की सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं.  इतना ही नहीं ज़्यादातर लोग तो आस्था के आगे व्यवस्थाओं को बौना साबित कर महामारी का मज़ाक उड़ाते हुए पूरे दावे से यह कह रहे हैं कि उन्हें न तो कोरोना से डर लगता है और न ही वह बहुत फिक्रमंद हैं. यह हाल तब है, जब अकेले प्रयागराज में कोरोना बेहद तेजी से पांव पसारने लगा है.

प्रयागराज में कोरोना तेजी से पैर पसार रहा है

संगम नगरी प्रयागराज की बात करें तो यहां हफ्ते भर पहले कई दिनों तक एक भी केस नहीं था. 31 दिसंबर को यहां छह मामले आए. एक जनवरी को सात मामले आए. वहीं दो जनवरी को पांच लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. तीन जनवरी को छत्तीस लोग संक्रमित हुए. चार जनवरी को मामलों की संख्या 31 पर सीमित हुई, जबकि पांच जनवरी को विस्फोट हुआ और संख्या सौ के पार जाकर 136 हो गई. फिलहाल जिले में संक्रमितों की संख्या बढ़कर अब ढाई सौ का आंकड़ा पार कर चुकी है.

प्रयागराज का माघ मेला चौदह जनवरी को शुरू होगा

बता दें कि प्रयागराज का माघ मेला चौदह जनवरी को मकर संक्रांति से शुरू होकर एक मार्च को महाशिवरात्रि तक चलेगा.  सैंतालीस दिनों के इस मेले में सत्रह जनवरी को पौष पूर्णिमा से लेकर सोलह फरवरी को माघी पूर्णिमा तक एक महीने का कल्पवास रहेगा. आम तौर पर दो से ढाई लाख संत महात्मा व देश के कोने कोने से आने वाले श्रद्धालु पूरे माघ महीने यहीं तम्बुओं के शहर में रहकर कल्पवास करते हैं, इस तरह पूरे एक महीने यहां स्थाई तौर पर आठ से दस लाख श्रद्धालुओं का रहना होता है, जबकि रोज़ाना लाखों की संख्या में श्रद्धालु यहां आस्था की डुबकी लगाने, संतों का दर्शन कर उनका आशीर्वाद लेने और पूजा अर्चना के बाद वापस जाते रहते हैं. छह प्रमुख स्नान पर्वों में मौनी अमावस्या पर श्रद्धालुओं की संख्या एक करोड़ का आंकड़ा पार कर जाती है तो वहीं मकर संक्रांति – बसंत पंचमी, पौष पूर्णिमा, माघी पूर्णिमा और महाशिवरात्रि पर भी लाखों की भीड़ जुटती है.

कोविड के चलते योगी सरकार ने जारी की है नई गाइडलाइन

इन सबके बीच    योगी सरकार ने नई गाइडलाइन जारी करते हुए मेले में एंट्री करने वाले सभी लोगों के लिए वैक्सीन के दोनों डोज़ का सर्टिफिकेट व 72 घंटे के अंदर की कोविड की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट लाए जाने की हिदायत दी है.  मेला प्रशासन ने भी हफ्ते भर पहले से ही सभी एंट्री प्वाइंट पर इन हिदायतों की चेकिंग करने, रैंडम सैम्पलिंग करने और वैक्सिनेशन की व्यवस्था करने के दावे किये हैं, लेकिन हमारी टीम को यह कहीं भी नज़र नहीं आई.  मेला प्रशासन ने अपनी तरफ से भी कई नियम बनाकर अलग से एडवाइजरी भी जारी की है. गंगा और यमुना के खुले मैदान में साढ़े छह सौ हेक्टेयर के करीब क्षेत्रफल में बसाये जा रहे मेले में कहने को तो चौदह इंट्री प्वाइंट रहेंगे, लेकिन लोग तमाम दूसरे रास्तों से भी मेले में दाखिल हो सकते हैं. ऐसे में मेला शुरू होने पर लाखों की भीड़ के बीच लोगों की निगरानी करना, उनके सर्टिफिकेट जांचना और टेस्टिंग व ट्रेसिंग करना व्यवहारिक तौर पर कतई संभव नहीं होगा.  मेलाधिकारी शेषमणि पांडेय भी सब कुछ बेहतर रहने का दावा कर रहे हों, लेकिन हकीकत का अंदाज़ा उनसे मिलने के लिए उनके चैंबर के बाहर खड़ी दर्जनों की भीड़ को देखकर ही लगाया जा सकता है.

मेले में 13 पुलिस स्टेशन और 40 चौकियां बनाई गई हैं

मेले में इस बार भी तेरह पुलिस स्टेशन और चालीस के करीब पुलिस चौकियां बनाई गई हैं.तमाम विभागों के दफ्तर खोले गए हैं. अस्थाई तौर पर कई अस्पताल खोले गए हैं. वहीं पांच हज़ार पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है, लेकिन लाखों -करोड़ों की भीड़ के आगे यह व्यवस्थाएं बौनी साबित होती हैं.

प्रयागराज में ही कल्पवास करने की परंपरा है

समूची दुनिया में अकेले प्रयागराज ही ऐसी जगह है, जहां कल्पवास करने की परंपरा है. धार्मिक मान्यता यह है कि प्रयागराज में लगातार बारह सालों तक कल्पवास करने पर लोगों को जीवन मरण के बंधन से मुक्ति यानी उन्हें मोक्ष मिल जाता है.  सरकार की दलील यह है कि वह लोगों का कल्पवास खंडित कर उनकी आस्था से खिलवाड़ नहीं कर सकती, इसलिए थोड़ी पाबंदियों के साथ मेले का आयोजन हर हाल में कराया ही जाएगा.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments